चीन से तनाव के बीच कश्मीर के लिए नया फरमान, करने होंगे ये दो काम

नई दिल्लीः एलएसी पर हुई हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन दोनों देशों के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। ये तानाव अब न सिर्फ भारत और चीन के बीच है, बल्कि पाकिस्तान ने भी अब भारतीय सीमा पर अपनी हलचल तेज कर दी हैं। जिसके बाद भारतीय सेना ने यहां गश्ती बढ़ा दी थी। हालांकि अब जो सेना के लिए नया आदेश आया है उसके बाद यहां तनाव बढ़ता नजर आ रहा है ।

बता दें कि जम्मू-ृकश्मीर में सरकार ने दो महीने के लिए LPG सिलेंडर का स्टॉक करने का आदेश दिया है। इससे साफ संदेश जा रहा है कि न सिर्फ लद्दाख बल्कि कश्मीर में भी युद्ध जैसे हालात उत्पन्न हो सकते हैं। साथ ही भारतीय सेना के लिए स्कूल को खाली कराने का आदेश भी दिया गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक लद्दाख में भारत-चीन के बीच जारी तनाव के बीच अब जम्मू कश्मीर सरकार ने दो अलग-अलग आदेश जारी किए हैं। जिसके बाद यहां के लोगों में चिंता बढ़ गई है। इनमें एक आदेश में कश्मीर में लोगों से कम से कम दो महीने के लिए एलपीजी सिलेंडर का स्टॉक करने के लिए कहा गया है।

इसके अलावा जम्मू कश्मीर में एक दूसरा आदेश भी जारी किया गया है। जिसमें सुरक्षाबलों के लिए  गांदरबल जिले में स्कूल की इमारतों को खाली करने की बात ही गई है। कश्मीर में गांदरबल जिला लद्दाख के कारगिल से सटा हुआ है। वहीं इस मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा है कि सरकार के आदेश कश्मीर में दहशत पैदा कर रहे हैं।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल के सलाहकार ने एक बैठक में घाटी में एलपीजी के पर्याप्त स्टॉक रखने का आदेश दिया है। जिसमें कहा गया कि भूस्खलन के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने के कारण आपूर्ति प्रभावित हो सकती है। इस आदेश को 'मोस्ट अर्जेंट मैटर' के रूप में वर्णित किया गया है।

खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ताओं के निदेशक के जरिए पारित आदेश में तेल कंपनियों से स्पष्ट रूप से कहा गया है कि वे रसोई गैस के पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध कराएं, जो दो महीने तक रह सकें. आमतौर पर अत्यधिक सर्दियों की परिस्थितियों के दौरान इस तरह के आदेश दिए जाते हैं, जब बर्फ या भारी बारिश के कारण सड़क ब्लॉक होने का गंभीर खतरा होता है। हालांकि गर्मियों के वक्त में ऐसा आदेश आने पर कई सवाल खड़े होते हैं।