दर्दनाक ! बिहार जा रहे प्रवासी मजदूरों को डंपर ने रौंदा, तीन की मौत

नई दिल्लीः लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूर अपने-अपने घर जाने को मजबूर हैं। ऐसे में थककर कहीं आराम करना भी उनके लिए सुरक्षित नहीं  है। मुंबई से इनोवा कार से लौट रहे बिहार के रहने वाले 7 प्रवासी मजदूर मिर्जापुर के लालगंज थाना इलाके के बसही गांव में पटरी के बगल में वाहन खड़ा कर सो रहे थे। इसी बीच गुरुवार रात लगभग तीन बजे एक डंपर ने उन्हें रौंद दिया। जिससे तीन मजदूरों की मौत हो गई। 

स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस दी जिसके बाद मौके पर पहुंचकर पुलिस ने  घायलों को मंडलीय अस्पताल और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना की सूचना मिलते ही आईजी पीयूष श्रीवास्तव, जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल व पुलिस अधीक्षक डॉ. धर्मवीर सिंह मौके पर पहुंचे।

राजमार्ग संख्या सात से बिहार निवासी सात प्रवासी इनोवा गाड़ी किराए पर लेकर मुंबई से घर वापस जा रहे थे। वे जैसे ही लालगंज पहुंचे थे कि ड्राइवर ने बसही स्थित एक मठ के सामने पटरी के किनारे गाड़ी खड़ी कर दी। उसके बाद सात में से तीन लोग जमीन पर चादर फैलाकर सो गए और चार लोग गाड़ी में ही सो गए।

लगभग तीन बजे एक निर्माण कंपनी का डंपर पत्थर लादकर कैंप कार्यालय लालगंज से बसही की ओर जा रहा था। तभी अचानक गाड़ी अनियंत्रित हो गई और सड़क के किनारे सो रहे इन प्रवासियों को रौंद दिया। उनकी चीखें सुनकर मठ के लोग जाग गए। बिहार के गोपालगंज फैजुल्लापुर खोमारी गांव निवासी राजू सिंह (26) व सौरभ कुमार (23) सहित एक अन्य की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।