चीनी निवेश के मसले पर राहुल ने मोदी सरकार को घेरा, पूछे ये सवाल

नई दिल्लीः भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को लेकर कांग्रेस लगातार केंद्र सरकार के प्रति हमलावर है। इस बीच चीनी निवेश के मुद्दे पर देश में चीनी कंपनियों के खिलाफ नाराजगी काफी बढ़ गई है। ऐसे में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी चीनी निवेश के मसले पर मोदी सरकार को घेरा है। राहुल ने कहा कि केंद्र सरकार बात तो ‘मेड इन इंडिया’ की करती है लेकिन सबसे ज्यादा आयात चीन से ही करती है।

राहुल गांधी ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि मोदी सरकार ‘मेक इन इंडिया’ के नाम पर बड़ी-बड़ी बातें करती है लेकिन सारा सामान चीन से ही मंगाती है। इसका असर यह होता है कि सारी कोशिशों के बाद भी चीन को भारत से काफी पैसा मिलता है। अपने ट्वीट के साथ राहुल ने एक ग्राफ भी साझा किया है, जिसमें उन्होंने चीन से सामान आयात करने के संबंध में संप्रग और राजग सरकार की तुलना की है।

ट्विटर पर शेयर ग्राफ के मुताबिक संप्रग सरकार के कार्यकाल में अधिकतम 14 फीसदी तक सामान चीन से मंगाया जाता था, जबकि मोदी सरकार के कार्यकाल में यह बढ़कर 18 फीसदी तक पहुंच गया। इस दौरान राहुल ने कहा कि आंकड़े कभी झूठ नहीं बोलते। सरकार को अपनी इस नीति पर अब विचार करना चाहिए।

दरअसल, चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारत सरकार ने आत्मनिर्भर भारत कैंपेन लॉन्च किया है, जिसके तहत आयात कम कर घरेलू उत्पाद के इस्तेमाल पर जोर देने की बात कही गई है। घरेलू उत्पाद पर निर्भरता बढ़ाने को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने ‘वोकल फॉर लोकल’ का नारा भी दिया। इतना ही नहीं केंद्र सरकार ने सोमवार को 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाया। माना जा रहा है कि इन ऐप से देश की सुरक्षा को खतरा था और डाटा चोरी की भी समस्या थी।