सोनिया-मनमोहन का सरकार पर निशाना, कहा- गलत नीतियों से बनी संकट की स्थिति

नई दिल्लीः कोरोना संकट और चीन सीमा विवाद के मुद्दे पर मंगलवार को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक हुई। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर संकट बरकार है। उन्होंने कहा कि वर्तमान के सभी संकट के लिए भारतीय जनता पार्टी सरकार कुप्रबंधन और उसकी गलत नीतियां जिम्मेदार हैं।

इस बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, पी. चिदंबरम, अहमद पटेल, अधीर रंजन चौधरी, एके एंटनी और गुलाम नबी आजाद आदि पार्टी नेता वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में शामिल हुए। बैठक की शुरुआत में कर्नल बी. संतोष बाबू और अन्य बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई, जिन्होंने सीमा सुरक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। इस दौरान दो मिनट का मौन भी रखा गया।

अपने संबोधन में सोनिया गांधी ने कहा कि आज देश में जो आर्थिक संकट की स्थिति है इसे दूर करने को लेकर कांग्रेस पार्टी ने सलाह दी थी लेकिन सरकार विपक्ष की सुनती कहां है। उन्होंने कहा कि इस समय सबसे बड़ी जरूरत गरीबों, एमएसएमई सेक्टर को बड़े पैमाने पर राजकोषिय प्रोत्साहन देने की है। बावजूद इसके मोदी सरकार ने एक खोखले वित्तीय पैकेज की घोषणा की, जो जीडीपी के एक फीसदी से भी कम था।

यहीं नहीं दुनिया भर में जब कच्चे तेल की कीमत औंधे मुंह गिरी हुई है, तब भी भारत में पिछले 17 दिनों से पेट्रोल-डीजल के दाम में वृद्धि हो रही है। सोनिया ने सवाल किया कि आखिर सरकार किस नीति के आधार पर लोगों को राहत पहुंचाने की बात कह रही है। कोविड-19 समस्या अब भी हमारे सामने विकराल रूप में खड़ी है। भले ही प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया हो लेकिन हकीकत में कुछ भी बेहतर होता नहीं दिखता। लगातार संक्रमितों के मामले सामने आ रहे हैं और वो भी तेज गति से। संकट की इस घड़ी में केंद्र ने राज्य सरकारों को मदद का आश्वासन दिया लेकिन अब तक एक भी रुपया राज्यों को नहीं दिया गया।

सीडब्ल्यूसी में पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कहा कि कोरोना संकट से निपटने के लिए जिस साहस और प्रयास की आवश्यकता है, उससे महामारी का सामना नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा सीमा पर संकट की एक और स्थिति उत्पन्न हो गई है। चीन विवाद को अगर दृढ़ता से नहीं निपटा जाता है तो गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है। आखिर में उन्होंने सोनिया गांधी की टिप्पणी का समर्थन किया।