भारत और चीन के बीच बढ़ा तनाव, डोभाल कर सकते हैं ये काम

नई दिल्लीः भारत और चीन के बीच चल रही तनातनी को खत्म करने के लिए डोभाल कूटनीति स्तर पर बातचीत करने की कोशिश कर सकते हैं। फिलहाल इसको लेकर कोई भी देश बातचीत को तैयार नहीं है। हालांकि इसका समाधान निकालने के लिए अजीत डोभाल बातचीत की नई रूपरेखा बना रहे हैं। 

कयास लगाए  जा रहे हैं कि भारत और चीन की सेना के बीच तनातनी खत्म करने के लिए कूटनीतिक स्तर पर बातचीत की कोशिश की जा सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सैन्य के बजाय कूटनीतिक स्तर पर बातचीत से सुलह का प्रयास हो सकता है। इसके लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल बातचीत नई नीति तैयार करने में लगे हैं। 

कुछ दिनों में फ्लैग मीटिंग और हॉटलाइन पर बातचीत के कई दौर चले हैं। उच्चपदस्थ सूत्रों के मुताबिक लद्दाख के चुसूल और दौलत बेग ओल्डी सीमा पर मंगलवार और बुधवार को ब्रिगेडियर स्तर की बातचीत भी हुई, लेकिन नतीजा नहीं निकला। 

गौरतलब है कि 3,488 किलोमीटर की साझी सीमा वाले दोनों देश अपनी-अपनी बात पर अड़े हैं। चीन का कहना है कि भारत उसके क्षेत्र में सड़क और अन्य निर्माण कर रहा है। 

जबकि भारतीय सेना की माने तो वे चीन नही बल्कि भारत के इलाके में ही काम कर रहे हैं। जिसको लेकर दोनों तरफ से सेना की तैनाती और गश्त बढ़ा दी गई है। बीते शनिवार को सिक्किम के नाकूला में भी दोनों सेनाओं के बीच झड़प हुई, जिसमें दोनों ओर के 11 सैनिक घायल हुए थे।