कश्मीर मुद्दे पर भी बोले ट्रंप, कहा- इस पर हमने कुछ नहीं बोला

नई  दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को जम्मू कश्मीर की स्थिति के बारे में बताया कि वहां बहुत से सकारात्मक काम हो रहे हैं। वहां स्थिति सामान्य है और अमेरिकी राजदूत सहित विदेशी राजनयिकों ने हालात की जानकारी के लिए दौरा किया है।

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत का ब्यौरा देते हुए मीडिया को बताया कि  वार्ता में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) का विषय नहीं आया। हालांकि ट्रम्प को जम्मू कश्मीर के घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि दोनों देशों ने अपनी रणनीतिक साझेदारी को व्यापक, वैश्विक, रणनीतिक साझेदारी में बदलने का फैसला किया है। मादक पदार्थों की तस्करी रोकने और आंतरिक सुरक्षा को पुख्ता बनाने के लिए दो कार्यदल गठित करने का फैसला किया गया है।

उन्होंने कहा कि वार्ता के दौरान पांच बिंदुओं पर विशेष रूप से चर्चा हुई। सुरक्षा, रक्षा, ऊर्जा, प्रौद्योगिकी और दोनों देशों के लोगों के बीच संपर्क। भारतीय पक्ष ने भारतीय पेशेवर लोगों विशेषकर सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़े दक्ष लोगों के लिए एच1बी वीजा को सुगमतापूर्वक जारी करने पर जोर दिया।

विदेश सचिव ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री को आश्वासन दिया कि अमेरिका भारत को रक्षा क्षेत्र में संयुक्त परियोजना शुरू करने और रक्षा संबंधी प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण तथा रक्षा खरीद में प्राथमिकता देगा। दोनों नेताओं ने करीब पांच घंटे का समय वार्ता में बिताया, जिस दौरान द्विपक्षीय संबंधों के दोनों पहलुओं पर विचार विमर्श किया गया। दोनों पक्षों ने व्यापार समझौते को शीघ्र अंजाम तक पहुंचाने के लिए वार्ता प्रक्रिया को तेज करने का फैसला किया। श्रृंगला ने कहा कि दोनों पक्षों ने भारत प्रशांत सहित वैश्विक संपर्क प्रणाली को व्यापक बनाने की जरूरत भी महसूस की।